Posted in Conflict, Family, life

द्वंद

इस घर में मैं ही हूँ,
यहाँ मखमली तकियें सिलवटों की राह ताकते हैं,
चार दीवार की खामोशी में,
खिड़कियों से बस कुछ लोग झाँकते है।
वो घर और था,
जहाँ मेरे अपने आते जाते थे,
वो दिन थे जब माँ की गोद मयस्सर थी,
और एक थपकी पर सपने आते थे।

जब नानी रातों को घंटो किस्से सुनाती थी,
हाथ सर पर फेरकर,
परियों के साथ सुलाती थी,
वहांँ नाना रोज़ मिठाई लाते थे,
खामोशी ने नहीं किया था कब्ज़ा वहां,
सुबह से शाम बच्चे खिलखिलाते थे।

वो घर अब बस एक याद है,
शाम की अज़ान अभ भी कानों में गूंजती है,
नानी के हाथ के अचार का लभ पर अभ भी स्वाद है,
वहांँ की कुछ दीवारें टूटी हुई थी,
छत से बूंदे टपकने के बाद भी,
शामें वहांँ के नज़ारो ने लूटी हुई थी।

इस घर में मैं ही हूँ,
यहाँ संगमरमर का फर्श भी चुभता है,
और अलमारियों में खामोशी बन्द है,
वहाँ लोगों से नोकझोक होती थी,
अब बस तनहाइयों से द्वंद है।

Advertisements

2 thoughts on “द्वंद

  1. Parents are hard sometimes, mostly because of generation gap, many times because Indian parents have unspoken authority over them even when we grown up, many times because of misunderstanding and lack of patience, sometimes because of flighted ego, and so on and so forth.

    It’ll slowly start fading away. It mostly happens when we come home no?

    You might be knowing, but there’s another girl who’s writing her heart out these days on her blog: https://arunima318.wordpress.com/2017/06/20/pre-marital-sex-and-serials/

    Liked by 1 person

    1. Yes I just checked the blog out. It is amazing.

      And yes, it happens when we come back home. Human tendency to realise what we had when it becomes a thing of the past.

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s