Posted in Conflict, Family, life

द्वंद

इस घर में मैं ही हूँ,
यहाँ मखमली तकियें सिलवटों की राह ताकते हैं,
चार दीवार की खामोशी में,
खिड़कियों से बस कुछ लोग झाँकते है।
वो घर और था,
जहाँ मेरे अपने आते जाते थे,
वो दिन थे जब माँ की गोद मयस्सर थी,
और एक थपकी पर सपने आते थे।

जब नानी रातों को घंटो किस्से सुनाती थी,
हाथ सर पर फेरकर,
परियों के साथ सुलाती थी,
वहांँ नाना रोज़ मिठाई लाते थे,
खामोशी ने नहीं किया था कब्ज़ा वहां,
सुबह से शाम बच्चे खिलखिलाते थे।

वो घर अब बस एक याद है,
शाम की अज़ान अभ भी कानों में गूंजती है,
नानी के हाथ के अचार का लभ पर अभ भी स्वाद है,
वहांँ की कुछ दीवारें टूटी हुई थी,
छत से बूंदे टपकने के बाद भी,
शामें वहांँ के नज़ारो ने लूटी हुई थी।

इस घर में मैं ही हूँ,
यहाँ संगमरमर का फर्श भी चुभता है,
और अलमारियों में खामोशी बन्द है,
वहाँ लोगों से नोकझोक होती थी,
अब बस तनहाइयों से द्वंद है।

Posted in life, Rain

Downpour to the past

Rain fascinates me. It brings to me thoughts that I don’t pay attention to usually. Just feels like yesterday when I was this stupid, immature little girl, a big mouth, sitting with legs wide open and a perpetual extrovert (sex no bar). And then a heavy shower washed her away and refined me. Now i take decisions wisely. There is introspection and retrospection, practicality. I don’t see a person and immediately feel affinity or affection. There’s judging and analyzing the scope of ‘us’. Placing the pros and cons on a weighing machine is the only spontaneous actions I apparently take.

Knowing that my dreams are just dreams and life is harsher. That before covering myself in clothes I need to discuss the dimensions with others. And serving to ‘others’ leads to eventual loss of self. And then I wonder if refinement means complexity and becoming older means coming closer to truth. That knowing nothing is dumb and knowing too much lethal.

The changes in me made me a pre-programmed calculator. And I miss the spontaneity. The life. There is nothing similar I share with that little girl but thank god, rain still fascinates me.